Tuesday

क्या आप सफल होने को तैयार है ?

दोस्तों हम सब अपनी जिंदगी में सफल होना चाहते है कोई कैरियर में, कोई व्यवसाय में, कोई जिन्दगी की जद्दोजहद में लेकिन क्या आपने सोचा है की आखिर कौन सी ऐसी बातें या आदतें या विचार होंगे जो आपको सफल बनायेंगे ?
आइये आज सफलता के ऐसे ही मानकों को जानते है जो आपको सफल बनायेंगे !
# आत्म मूल्यांकन करें : जब आप अपनी बाइक / गाडी से कहीं जाते है तो सबसे पहले उसे अच्छी तरह जांचते है की कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं है, सारे पार्ट्स ठीक से काम कर रहे है न आदि आदि । वैसे ही आपकी सफलता की राह में आपकी सारी आंतरिक शक्तियों का ठीक से से काम करना भी जरुरी है ।
आपने अनुभव किया होगा की सुबह से शाम तक हमारे मन में अनेकों विचार जैसे गुस्सा, चिंता, परेशानी, दोस्त व दूसरों के व्यवहार, अचानक की विपरीत परिस्थिति, शारीरिक कष्ट, परिवार का तनाव आदि आते है जो कई बार नकारात्मक प्रभाव डालते है । इस प्रभाव में आने से आपके जोश, कार्यक्षमता, लगनशीलता, लक्ष्य के प्रति समर्पण में कमी आ जाती है । इसलिए प्रतिदिन कम से कम 10 मिनिट खुद को इस कसौटी में परखें कि क्या सही-गलत हुआ और अब क्या बेहतर करना है ।
ध्यान रहे तमाम समस्यायों के बाद भी आपको सिर्फ समाधान की तरफ ही बढ़ाना है यही आपकी सफलता की पहली सीढ़ी होगी । कहते है न -
मंजिल तो मिल ही जायेगी, भटके हुए मुसाफिर को,
गुमराह तो वो है, जो घर से निकले ही नहीं ।।

# अपना व्यक्तित्व स्वयं गढ़ें : याद रखो आपके सार्थक प्रयासों के अलावा, दुनिया का कोई भी इंस्टिट्यूट आपका व्यक्तित्व नहीं बना सकता । अर्जुन की तरह लक्ष्य भेदना है तो अपने साधन (सकारात्मक विचार / अध्ययन सामग्री), एकाग्रता, आत्म-नियंत्रण और साध्य (जिस लक्ष्य को पाना चाहते है) पर ध्यान देना होगा । आपकी सफलता के लिए बाधक (नकारात्मकता) और साधक (सकारात्मकता) कारकों को पहचानकर नियमित सुधार करते रहना होगा । कुछ आदतों को बदलते हुए अपने व्यव्क्तित्व को निखारने में प्रयासरत रहें ।
सफलता के बाधक (इन्हें घटाना है) : डर, नफरत, घमंड, क्रोध, ईर्ष्या, लालच, निराशा व हिंसा
सफलता के साधक (इन्हें बढ़ाना है) : प्रेम, अपनापन, मददगार, परस्पर सम्मान, सीखने की इच्छाशक्ति, समर्पण व संवेदनशीलता

# अच्छी दिनचर्या से शुरुआत करें :  सोचो यदि रेलवे की ट्रेनें बिना टाइम टेबल चले, आपकी स्कूल-कालेजों की परीक्षाएं बिना निर्धारित योजना व कार्यक्रम से होने लगे तो कैसा माहौल बनेगा ? अव्यवस्था फ़ैल जायेगी न ? बस कुछ ऐसी ही अव्यवस्था अनजाने में बहुत से लोगों के जीवन में चल रही है शायद उसमे आप भी शामिल हों !
अपने लक्ष्य (करियर अथवा जीवन) को ध्यान में रखकर एक वृहद कार्ययोजना (कब, कैसे और किस साधन) बनायें, फिर उसी के अनुसार अपने कार्य निर्धारित करें ।
अपनी योजना को अमल में लाने के लिए दैनिक कार्यों का टाइम टेबल बनाना चाहिए और रोज के टास्क को नियमित रूप से पूरा करें ।
सुबह की शुरुआत खुशनुमा व प्रेरणादायी होनी चाहिए यह आपको दिनभर सेल्फ-मोटिवेट करेगा । अतः कोई प्रेरक किताब पढ़ें, ऑडियो/विडियो लेक्चर सुनें अथवा किसी पॉजिटिव थॉट्स का वालपेपर मोबाइल स्क्रीन में लगा लें ।
अपने दैनिक लक्ष्य को पाने के लिए मेहनत करें, शॉर्टकट के चक्कर में न आये । अपने टारगेट और अचीवमेंट को हर शाम जाँचें ।

# लक्ष्य पर हमेशा नजर रखें : अक्सर ऐसा होता है की योजना भी बन गई और कुछ दिन आगे भी बढ़े लेकिन चौथे दिन तक सब बदल सा जाता है आखिर क्यों ? जिस तरह प्यास लगने पर जब तक पानी नहीं मिलता तब तक आपका शरीर चैन नहीं पाता ठीक वैसे ही आपको भी लक्ष्य को पाने की तड़प होनी चाहिए । आपका हर एक्शन-रिएक्शन आपके लक्ष्य की तरफ ही होना चाहिए । कुछ नया सीखें या पुराना कार्य करें इस बात का ध्यान रखें की यह आपके उद्देश्य से जुड़ा व सार्थक हो ।
सही दिशा में किया गया निरंतर प्रयास ही आपको सफल बनाने वाला है अब खुद ही सोचो सफल बनना है या फिर .......

Wednesday

e/; izns’k yksd lsok vk;ksx
vH;kl iz’u i= & bfrgkl
iz-1  jkekslh fonzksg dgkWa gqvk FkkA
¼v½     caxky esa                 ¼c½      m-iz-            ¼l½     iatkc                    ¼n½     egkjk"Vª
iz-2  1857 ds fonzksg ds nkSjku y[kum esa fonzksg dk usr`Ro fdlus fd;k FkkA
        ¼v½     ukuk lkgsc               ¼c½      vtheqYyk [kku ¼l½        csxe gtjr egy        ¼n½     rkR;k Vksis
iz-3  Hkkjr ds fdl ok;ljk; dh gR;k v.Meku }hi esa dh xbZ FkhA
        ¼v½     ykMZ dkWuZokfyl   ¼c½      ykMZ osystyh     ¼l½     ykMZ es;ks         ¼n½     ykMZ fyVu
Izk-4 ykMZ dkWuZokfyl us LFkk;h cUnkscLr O;oLFkk dk izkjaHk 1773 esa fdl LFkku ls fd;k FkkA
        ¼v½     nf{k.k Hkkjr              ¼c½       iatkc           ¼l½              mRrj Hkkjr      ¼n½     egkjk"Vª
iz-5  ykMZ dtZu us 1905 esa caxky foHkktu fd;k ;g foHkktu fdl o"kZ lekIr gqvkA
        ¼v½      1910                   ¼c½       1912           ¼l½     1914                    ¼n½     1909   
iz-6  1909 esa vf[ky Hkkjrh; f[kykQr lfefr ds v/;{k dkSu pqus x;sA
        ¼v½      eks- vyh                ¼c½       egkRek xka/kh     ¼l½     'kkSdr vyh              ¼n½  ekSyuk vktkn
iz-7  xksiky d`".k xks[kys us losZUV~l vkWQ bafM;k lkslkbVh dk xBu D;ksa fd;k FkkA
¼v½  tu vkUnksyuksa dks lfdz; djus ds fy, 
¼c½  'kkl- deZpkfj;ksa dks Hkkjrh; Lok/khurk laxzke ls tksMus  ds fy,             
¼l½  dj O;oLFkk dks ikjn’khZ cukus ds fy,
        ¼n½  Hkkjr dks lkE;okn dk fo"k; LiLV djus ds fy,
iz-8  ykyk ykt irjk; ?kk;y gq, FksA
        ¼v½  lkbeu deh’ku ds fojks/k esa gq, ykBh pkpZ esa    ¼c½  jksysDV ,DV ds fojks/k esa gq, ykBh pktZ esa
        ¼l½  Hkkjr NksM+ks vkUnksyu ds le; gq, ykBh pktZ esa  ¼n½  xouZesUV vkWQ bafM;k ,DV ds fojk/k esa gw, ykBh pktZ essa
iz-9  vgefn;k vkUnksyu dk izkjaHk fdlus fd;kA
        ¼v½     lS;n vgen [kku        ¼c½     eks- dklhe ukuksroh       ¼l½     fetkZ xqyke vgen     ¼n½egewn glu
iz-10  fuEu esa ls fdls izFke fl[k /keZ lq/kkj vkUnksyu ekuk tkrk gSA
        ¼v½  uke/kkjh vkUnksyu    ¼c½  dqdk vkUnksyu       ¼l½  vyhx<+ vkUnksyu    ¼n½  cgkoh vkUnksyu
iz-11  fgUnqLrku fjifCydu ,lksfl,lu dh LFkkiuk fdlus dhA
        ¼v½  ljnkj Hkxr flag  ¼c½  pUnz’ks[kj vktkn        ¼l½  jkeizlkn fofLEky     ¼n½  jktsUnz ykgMh
iz-12  fuEu dks lqesfyr dhft;sA
       ¼ aaa½  vfHkuo Hkkjr 1½  ojhUnz ?kks"k                          A            B         C         D
¼b½  vuq’khuy lfefr     2½  oh-Mh- lokjdj             (a)       1             3            4          2
¼c½  xnj vkUnksyu       3½  Hkxr flag                 (b)        2            1            4          3
¼d½ Hkkjr ukStoku lHkk     4½  ykyk gjn;ky             (c)        2              4          3          1
                                                                         (d)        1        4          3          2
iz-13  fcgkj esa pkSdhnkjh dj ds fo:) vkUnksyu] ,d fgLlk FkkA
        ¼v½  vlg;ksx vkUnksyu dk                                ¼c½  lfou; voKk vkUnksyu dk
¼l½ Hkkjr NksMks vkUnksyu dk                                ¼n½  f[kykQr vkUnksyu  
iz-14  tokgj yky usg: dh v/;{krk esa dkxzsal ds fdl vf/kos’ku }kjk ^iw.kZ Lojkt* dk izLrko ikfjr  fd;k x;kA
        ¼v½  1930       ¼c½  1931        ¼l½  1928       ¼n½  1929
iz-15  Hkkjr esa loksZPPk U;k;ky; dh LFkkiuk gqbZ FkhA
¼v½  1919 ds vf/kfu;e }kjk                ¼c½  1947 ds Lora=rk vf/kfu;e }kjk  
¼l½  1935 ds Hkkjr ljdkj vf/kfu;e }kjk    ¼n½     1928 ds usg: fjiksZV ds }kjk
Izk-16  LFkkuh; Lo’kklu dk tud fdls ekuk tkrk gSA
        ¼v½ ykWMZ es;ks     ¼c½  ykWMZ fjiu          ¼l½  ykMZ fyVu          ¼n½  ykWMZ dkWuZokfyl
iz-17  oS;fDrd LkR;kxzg fdlus vkjaHk fd;k FkkA
        ¼v½  fouksok Hkkos  ¼c½  tokgj yky usg:    ¼l½ ljnkj iVsy  ¼n½ ‘'kkSdr vyh
iz-18  dkxzsal o eqfLye yhx ds e/; le>kSrs ds fy, lh- jktxksikykpkjh QkWewyk dc izLrkfor fd;k x;kA
        ¼v½  1944              ¼c½  1946                ¼l½  1942       ¼n½  1940
iz-19  Hkkjrh; jk"Vªh dkxzsal dk izFke v/khos’ku dgkWa gqvk FkkA
        ¼v½  fnYyh                ¼c½  ykgkSj            ¼l½  eqEcbZ       ¼n½  iVuk
iz-20  xka/kh bjfou le>kSrs ij gLrk{kj dc gq,A
        ¼v½  1930        ¼c½  1931       ¼l½  1932       ¼n½  1933
iz-21  jke eksgu jk; ds fopkjks ij dsfUnzr ^^rRocksf/kuh lHkk** dk xBu fdlus fd;kA
        ¼v½  ds’ko pUnz lsu       ¼c½  nsosUnz ukFk VSxksj  ¼l½ lqjsUnz ukFk CkSuthZ ¼n½  vkRekjke ikaMqjax
iz-22  vaxzstksa }kjk jS;rokMh cUnkscLr ykxw fd;k x;k FkkA
        ¼v½  caxky izslhMsalh       ¼c½  enzkl iszlhMsalh      ¼l½  cEcbZ iszlhMsalh        ¼n½  cEcbZ ,oa enzkl iszlhMsalh
iz-23 fuEukafdr esa ls dkSu lgh lqesfyr ugha gSA
        ¼v½  ykMZ osystyh                &               lgk;d laf/k
¼c½  ykMZ MygkSth                &               oqM~l fMLiSp
        ¼l½  ykMZ fyVu          &                     oukZdqyj izsl ,DV
        ¼n½  ykMZ dtZu          &                    Hkkjrh; jk"Vªh; dkxzsal dk xBu
iz-24  1915 & 16 esa nks gkse:y yhx vkjaHk dh x;h Fkh usr`Ro esaA
        ¼v½  fryd ,oa ,uh csls.V ds                      ¼c½  fryd ,oa vjfoUn ?kks"k ds
        ¼l½  fryd ,oa ykyk ykt irjk; ds                ¼n½  fryd ,oa fofiu pUnz iky ds
iz-25  dkxzsal ds fdl v/khos’ku esa uje ny o xje ny ,d gks x,A
        ¼v½  lwjr vf/kos’ku    ¼c½  y[kum vf/kos’ku  ¼l½  djkph vf/kos’ku    ¼n½ ykgkSj vf/kos’ku
iz-26  fuEu esa ls dkSu dkdksjh dkW.M 1925 esa lkfey ugha FkkA
        ¼v½  jkeizlkn fofLey    ¼c½  [kqnhjke cksl ¼l½  panz’k[kj vktkn      ¼n½vlQkd mYyk [kku                                    
iz-27  Hkkjr esa lkbeu vk;ksx ds cfgLdkj dk eq[; dkj.k FkkA
        ¼v½  le; ls iwoZ fu;qfDr                    ¼c½  lHkh lnL; vaxzst FkA
        ¼l½  lHkkifr fczfV’k fycju ikVhZ dk lnL; Fkk        ¼n½  xka/kh th dk vlg;ksx vkUnksyu
Izk-28  Hkkjr esa }S/k 'kklu izkjaHk fd;k FkkA
        ¼v½  xouZesUV vkWQ bafM;k ,DV] 1935 ls               ¼c½  ekysZ feUVks lq/kkj ls
        ¼l½  ekWUVQksMZ lq/kkjkssa ls                            ¼n½ lkbeu deh’ku ;kstuk ls
iz-29  eqfLye yhx }kjk ikfdLrku dh LFkkiuk dh ekax djus okyk izLrko ikfjr fd;k x;k o"kZA
        ¼v½     1905    ¼c½      1917    ¼l½     1940    ¼n½     1946
iz-30  vxLr 1932 ds jSets eSDMksukYM ds lkEiznkf;d iapkV ds }kjk igyh ckj ,d i`Fkd fuokZpd lewg cuk;k x;kA
        ¼v½  eqlyekuksa ds fy,    ¼c½  Hkkjrh; bZlkb;ksa ds fy,  ¼l½ ,aXyksa bafM;u ds fy,        ¼n½ vNwrksa ds fy,
iz-31  Hkkjr ljdkj vf/kfu;e 1935 us lekIr dhA
        ¼v½     izkarh; Lok;Rrrk                                          ¼c½      izkarh; }S/k’kklu O;oLFkk   
 ¼l½    Hkkjr dh la?kh; lajpuk                                    ¼n½     ftEesnkj dsfUnz; ljdkj
iz-32  1878 dk oukZD;qyj izsl ,DV fdlus 'kq: fd;k FkkA
        ¼v½     ykMZ fjiu    ¼c½ ykMZ fyVu       ¼l½     ykMZ dtZu       ¼n½     ykMZ feUVks
iz-33  fdl dzkafrdkjh us dh e`R;q 64 fnuksa ds miokl ds ckn gks x;h FkhA
        ¼v½     iqfyu nkl    ¼c½ tfrunkl        ¼l½     lw;Zlsu          ¼n½     jklfcgkjh cksl
iz-34  ojnksyh lR;kxzg dk usr`Ro fdlus fd;kA
        ¼v½     ljnkj iVsy   ¼c½        egkRek xka/kh      ¼l½     fouksok Hkkos       ¼n½     fprjatunkl
iz-35  nsocan vkUnksyu dk izkjaHk 1866 esa fdlus fd;k FkkA
        ¼v½     lS;n vgen  ¼c½        lfj;r vYykg  ¼l½       'kkgoyh mYyk    ¼n½     dkfle ukuksroh
iz-36  x.kifr egksRlo dk 1893 esa izkjaHk fdlus fd;k FkkA
        ¼v½     xksiky d`".k xks[kys   ¼c½  cky xaxk/kj fryd  ¼l½   ,e-th- jkukM+s     ¼n½ vkRekjke ikMqdj
iz-37  tkfy;k okyk ckx gR;kdk.M dh tkWp ds fy, dkSu lk vk;ksx xfBr fd;k x;kA
        ¼v½     jSys vk;ksx    ¼c½ eSdMksukYM vk;ksx         ¼l½     g.Vj vk;ksx     ¼n½     oqM~l vk;ksx
iz-38  Hkkjr esa igyh ckj ekSfyd vf/kdkjksa dks fdlesa n’kkZ;k x;kA
¼v½     lkbeu deh’ku   ¼c½     usg: fjiksVZ      ¼l½     xka/kh bjfou le>kSrk       ¼n½     1909 dk vf/kfu;e
iz-39  lfou; voKk vkUnksyu esa xka/kh th us nk.Mh ;k=k dk izkjaHk dc fd;k FkkA
        ¼v½     12 ekpZ 1930    ¼c½      6 ekpZ 1930      ¼l½     6 vizSy 1930             ¼n½     12 vizSy 1930
iz-40  la?kh; O;oLFkk dk fuekZ.k fdl vf/kfu;e ds rgr gqvkA
        ¼v½     1909 vf/kfu;e  ¼c½       1919 vf/kfu;e     ¼l½   1935 vf/kfu;e           ¼n½     1947 vf/kfu;e
iz-41  fuEu esa ls fdlus fdzIl fe’ku dks ^^iksLV MsVsM psd** dh laKk nhA
        ¼v½     tokgj yky usg: ¼c½     egkRek xka/kh       ¼l½    ljnkj iVsy              ¼n½     ekSykuk vktkn
iz-42  1940 dk vxLr izLrko fdl ok;ljk; }kjk yk;k x;kA
        ¼v½ ykMZ bjfou      ¼c½   ykMZ fjfMax       ¼l½     ykMZ fyufyFkxks   ¼n½     ykMZ ososy
iz-43  Hkkjr esa egkRek xka/kh }kjk pyk;k x;k izFke lR;kxzg dkSu lk FkkA
        ¼v½     pEikj.k lR;kxzg   ¼c½       [ksM+k lR;kxzg  ¼l½      vlg;ksx vkUnksyu        ¼n½     O;fDrxr lR;kxzg
iz-44  eqfLye yhx us izR;{k dk;Zokgh fnol dc euk;kA
        ¼v½     16 vxLr 1946       ¼c½  16 vxLr 1944  ¼l½      16 vxLr 1940           ¼n½     16 vxLr 1942
iz-45  gM+i uhfr dk lw=ikr fdl xouZj tujy }kjk fd;k x;kA
        ¼v½     ykWMZ dSfuu           ¼c½          ykWMZ oSystfy     ¼l½     ykWMZ MygkWth     ¼n½     ykWMZ fjiu
iz-46  fuEu esa ls fdlus rhuksa xksyest lEesyuksa esa Hkkx fy;k FkkA
        ¼v½     egkRek xka/kh          ¼c½          ch-vkj- vEcsMdj  ¼l½     eksrh yky usg: ¼n½       fprjatunkl
iz-47  egkRek xka/kh us ^^djks ;k ejks** dk ukjk fdl vkUnksyu esa fn;k FkkA
        ¼v½     vlg;ksx vkUnksyu                                        ¼c½      Hkkjr NksM+ks vkUnksyu      
¼l½     lfou; voKk vkUnksyu                                    ¼n½     f[kykQr vkUnksyu
iz-48  Hkkjr ds izFke xouZj tujy FksA
        ¼v½     okjsu gsfLaVx    ¼c½       ykMZ fofy;e cSafVd       ¼l½     ykMZ Dykbo      ¼n½     ykWMZ dtZu
iz-49  iwuk le>kSrk fdlds e/; gqvk FkkA
        ¼v½     xka/kh & vEcsMdj    ¼c½   xka?kh & usg:     ¼l½     xka/kh & bjfou    ¼n½     dkxzsal & eqfLye yhx
iz-50  10 ebZ 1857 dks dzkafr dk izkjaHk dgkWa ls gqvkA
        ¼v½     cSjdiqj          ¼c½      esjB            ¼l½     fnYyh           ¼n½     y[kum     
                                                                                                

Tuesday

राज्य के नीति निर्देशक तत्व

  • भारतीय संविधान में अनुच्छेद 36 से 51 तक में निर्देश के रूप में ऐसे प्रावधान शामिल किये गए है जिन्हें राज्यों (केंद्र या राज्य सरकार) को पालन करना चाहिए और इनके पालन से भारत एक कल्याणकारी राज्य बन सकता है |
    राज्य के नीति निर्देशक तत्व एक आदर्श प्रारूप हैं लेकिन सरकार इसका पालन ही करे, ऐसी बाध्यता नहीं है इसलिए इनके पालन न करने की स्थिति में न्यायालय में याचिका दायर नहीं की जा सकती है |
    मौलिक अधिकारों और नीति निर्देशक तत्व में मुख्य अन्तर यह है की जहाँ मौलिक अधिकार व्यक्ति के लिए है तो वहीँ नीति निर्देशक राज्य (सरकारों) के लिए है |

    कुछ प्रमुख नीति निर्देशक तत्व निम्न है |
    प्रारंभ के अनुच्छेदों में नीति निर्देशक तत्व को परिभाषित किया गया है 
    1)      अनुच्छेद 38:  राज्य ऐसी सामाजिक व्यवस्था बनाएगा सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय को सुनिश्चित करते हुए भारत को लोक कल्याण की दिशा में अग्रसर करेगा।
    2)      अनुच्छेद 39 : राज्य अपनी नीतियों का सञ्चालन इसप्रकार करेगा जिससे पुरुष और स्त्री सभी नागरिकों को समान रूप से जीविका के पर्याप्त साधन प्राप्त करने का अधिकार हो |
    3)      अनुच्छेद 40 : राज्य ग्राम पंचायतों के गठन हेतु ऐसे कदम उठाएगा जिससे पंचायतो को स्वायत्त शासन की इकाई के रूप में कार्यक्षम बनाया जा सके |
    4)      अनुच्छेद 41 : -राज्य आर्थिक आर्थिक सामर्थ्य और विकास की सीमाओं के भीतर, काम पाने के, शिक्षा पाने के और बेरोजगारी, बुढ़ापा, बीमारी और निःशक्तता तथा अन्य अनर्ह अभाव की दशाओं में लोक सहायता पाने के अधिकार को प्राप्त कराने का प्रभावी उपबंध करेगा।
    5)      अनुच्छेद 42: राज्य विशेषतः महिलाओं के सम्बन्ध में काम की न्यायसंगत और मानवोचित दशाओं का तथा प्रसूति सहायता का उपबंध करेगा |
    6)      अनुच्छेद 43: राज्य कर्मकारों के कार्यक्षेत्र की परिस्थिति, न्यूनतम मजदूरी व सुविधा के सम्बन्ध में अपेक्षित प्रावधान करेगा |
    7)      अनुच्छेद 44 : राज्य, भारत के समस्त राज्यक्षेत्र में सभी नागरिकों के लिए एक समान सिविल संहिता बनाने का प्रयास करेगा।
    8)      अनुच्छेद 45 : राज्य, इस संविधान के प्रारंभ से दस वर्ष की अवधि के भीतर सभी बालकों को चौदह वर्ष की आयु पूरी करने तक, निःशुल्क और ओंनवार्य शिक्षा देने के लिए उपबंध करने का प्रयास करेगा ।
    (४६वें संविधान द्वारा संशोधन के पश्चात् नया प्रावधान : -राज्य सभी बालकों के लिए छह वर्ष की आयु पूरी करने तक, प्रारंभिक बाल्यावस्था देख-रेख और शिक्षा देने के लिए उपबंध करने का प्रयास करेगा।)
    9)      अनुच्छेद 46 : राज्य, जनता के दुर्बल वर्गों (विशेषतः अनुसूचित जातियों और जनजातियों) के शिक्षा और अर्थ संबंधी हितों की विशेष सावधानी से अभिवृद्धि करेगा और सामाजिक अन्याय और सभी प्रकार के शोषण से उसकी संरक्षा करेगा ।
    10)   अनुच्छेद 47: राज्य, नागरिक के पोषणस्तर व जीवन स्तर की वृद्धि हेतु लोकस्वास्थ्य, औषधि निर्माण, नशामुक्ति के सम्बन्ध में आवश्यक प्रावधान करेगा |
    11)   अनुच्छेद 48: राज्य, देश के पर्यावरण के संरक्षण तथा संवर्धन का और वन तथा वन्य जीवों की रक्षा करने का प्रयास करेगा
    12)   अनुच्छेद 49: राज्यराष्ट्रीय महत्व के संस्मारकों, स्थानों और वस्तुओं के संरक्षण हेतु विशेष प्रयास करेगा |
    13)   अनुच्छेद 50: राज्य की लोक सेवाओं में, न्यायपालिका को कार्यपालिका से पृथक्‌ करने के लिए राज्य कदम उठाएगा ।
    14)   अनुच्छेद 51: अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा की अभिवृद्धि हेतु राज्य प्रयास करेगा |

    भारत के सन्दर्भ में "राज्य के नीति निदेशक तत्व" का महत्व :
    Ø  इन प्रावधानों के माध्यम से समाज के कमजोर वर्गों के लिए राजनीतिकआर्थिक एवं सामाजिक न्याय को सुरक्षित किया जा सकता है |
    Ø  ये नागरिकों के अवसर व पद की समानता सुनिश्चित करते है |
    Ø  ये व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता, अखंडता को सुनिश्चित करते है |
    Ø  सरकार नैतिक रूप से बाध्य है (कानूनी रूप से नहीं) की वह कमजोर वर्ग के हित में कोई कदम उठाये |
    Ø  ये प्रावधान अंतर्राष्ट्रीय शांति व सुरक्षा को बढ़ावा देने में राष्ट्र की भूमिका सुनिश्चित करते है |


Thursday

मध्य प्रदेश के प्रमुख लोकनृत्य


1) करमा नृत्य : मध्य प्रदेश के गोंड और बैगा आदिवासियों का प्रमुख नृत्य है | जो मंडला के आसपास क्षेत्रों में किया जाता है | करमा नृत्य गीत कर्म देवता को प्रशन्न करने के लिए किया जाता है | यह नृत्य कर्म का प्रतीक है | जो आदिवासी व लोकजीवन की कर्म मूलक गतिविधियों को दर्शाता है | यह नृत्य विजयदशमी से प्रारंभ होकर वर्षा के प्रारंभ तक चलता है |
ऐसा माना जाता है की करमा नृत्य कर्मराजा और कर्मरानी को प्रसन्न करने के लिए किया जाता है इसमें प्रायः आठ पुरुष व आठ महिलाएं नृत्य करती है | ये गोलार्ध बनाकर आमने सामने खड़े होकर नृत्य करते है | एक दल गीत उठता है और दूसरा दल दोहराता है | वाध्य यन्त्र मादल का प्रयोग किया जाता है नृत्य में युवक युवती आगे पीछे चलने में एक दुसरे के अंगुठे को छूने की कोशिश करते है |
बैगा आदिवासियों के करमा को बैगानी करमा कहा जाता है ताल और लय के अंतर से यह चार प्रकार का होता है | 1) करमा खरी 2) करमा खाय 3) करमा झुलनी ४) करमा लहकी |
संक्षेप में करमा नृत्य की विशेषताएं :
·        यह नृत्य कर्म को महत्त्व देने वाला है |
·        यह गौंड, बैगा जनजाति के कृषकों द्वारा किया जाता है |
·        यह नृत्य गीत, लय, ताल के साथ पद सञ्चालन पर आधारित है |
·        करमा नृत्य जीवन की व्यापक गतिविधियों से सम्बंधित है |
·        यह नृत्य दशहरे से वर्षाकाल के आरम्भ अर्थात अक्टूबर से जून तक चलता है |


2) राई नृत्य : मध्य प्रदेश के प्रमुख लोकनृत्य राई को इसके क्षेत्र के आधार पर दो भागों में बांटा जा सकता है | बुंदेलखंड का राई नृत्य और बघेलखंड का राई नृत्य |
बुंदेलखंड का राई नृत्य : राई नृत्य बुंदेलखंड का एक लोकप्रिय नृत्य है यह नृत्य उत्सवों जैसे विवाह, पुत्रजन्म आदि के अवसर पर किया जाता है |  अशोकनगर जिले के करीला मेले में राई नृत्य का आयोजन सामूहिक रूप से किया जाता है | यहाँ पर लोग अपनी मन्नत पूर्ण होने पर देवी के मंदिर के समक्ष लगे मेले में राई नृत्य कराते है | यह राई का धार्मिक स्वरुप है | राई नृत्य के केंद्र में एक नर्तकी होती है जिसे स्थानीय बोली में बेडनी कहा जाता है | नृत्य को गति देने का कार्य एक मृदंगवादक पुरुष द्वारा  किया जाता है | राई नृत्य के विश्राम की स्थिति में स्वांग नामक लोकनाट्य भी किया जाता है जो हंसी मजाक व गुदगुदाने का कार्य करता है | विश्राम के उपरांत पुनः राई नृत्य प्रारंभ किया जाता है | अन्य लोकनृत्यों में जो बात प्रायः नहीं पाई जाती है वह है राई में पाई जाने वाली तीव्र गति, तत्कालीन काव्य रचना और अद्वितीय लोक संगीत | संगीत में श्रृंगार व यौवन झलकता है |
बघेलखंड का राई नृत्य : बुंदेलखंड की तरह बघेलखं में भी राई नृत्य किया जाता है परन्तु यहाँ पर नृत्य में कुछ विभेद आ जाते है जैसे बुंदेलखंड में राई नृत्य बेडनी द्वारा किया जाता है वहीँ बघेलखंड में पुरुष ही स्त्री वेश धारण कर राई नृत्य प्रस्तुत करते है इसके अतिरिक्त बुन्देलखंड में वाद्ययंत्र के तौर पर मृदंग का प्रयोग किया जाता है वहीँ बघेलखंड में ढोलक व नगड़िया का उपयोग किया जाता है | बघेलखंड में राई नृत्य विशेष रूप से अहीर पुरुषों द्वारा किया जाता है परन्तु कहीं कहीं पर ब्राम्हण स्त्रीयों में भी इसका प्रचलन पाया जाता है | पुत्र जन्म पर प्रायः वैश्य महाजनों के यहाँ पर भी राई नृत्य का आयोजन किया जाता है | स्त्रियाँ हाथों, पैरों और कमर की विशेष मुद्राओं में नृत्य करती है | राई नृत्य के गीत श्रृंगार परक होते है | स्त्री नर्तकियों की वेश-भूषा व गहने परंपरागत होते है | पुरुष धोती, बाना , साफा, और पैरों  में घुंघरू बांधकर नाचते है | 


3) बधाई नृत्य :  बुंदेलखंड क्षेत्र में जन्म, विवाह और त्योहारों के अवसरों पर बधाईं' लोकप्रिय है। इसमें संगीत वाद्ययंत्र की धुनों पर पुरुष और महिलाएं सभी, ज़ोर-शोर से नृत्य करते हैं। नर्तकों की कोमल और कलाबाज़ हरकतें और उनके रंगीन पोशाक दर्शकों को चकित कर देते है।

4) भगोरिया नृत्य : भगोरिया नृत्य अपनी विलक्षण लय और डांडरियां नृत्य के माध्यम से मध्यप्रदेश की बैगा आदिवासी जनजाति की सांस्कृतिक पहचान बन गया है। बैगा के पारंपरिक लोक गीतों और नृत्य के साथ दशहरा त्योहार की उल्लासभरी शुरुआत होती है। दशहरा त्योहार के अवसर पर बैगा समुदाय के विवाहयोग्य पुरुष एक गांव से दूसरे गांव जाते हैं, जहां दूसरे गांव की युवा लड़कियां अपने गायन और डांडरीयां नृत्य के साथ उनका परंपरागत तरीके से स्वागत करती है। यह एक दिलचस्प रिवाज है, जिससे बैगा लड़की अपनी पसंद के युवा पुरुष का चयन कर उससे शादी की अनुमति देती है। इसमें शामिल गीत और नृत्य, इस रिवाज द्वारा प्रेरित होते हैं। माहौल खिल उठता है और सारी परेशानियों से दूर, अपने ही ताल में बह जाता है।

Sunday

भारतीय संविधान का संक्षिप्त परिचय



  • भारतीय संविधान एक मौलिक कानूनी आलेख है जिसके अंतर्गत किसी देश की सरकार कार्य करती है | यह संविधान देश में विधायिका, कार्यपालिका एवं न्यायपालिका की व्यवस्था तथा उनके अधिकारों/ उत्तरदायित्वों को सुनिश्चित करता है
  • भारतीय संविधान का निर्माण एक संविधान सभा द्वारा किया गया जिसकी अनुशंसा कैबिनेट मिशन (१९४६) द्वारा की गई थी |
  • संविधान सभा का चुनाव अप्रत्यक्ष निर्वाचन पद्धिति द्वारा हुआ था जिसमें राज्यों की विधानसभाओं में से प्रत्येक 10 लाख की जनसँख्या पर एक प्रतिनिधि चुना गया |
  • संविधान सभा के लिए कुल प्रतिनिधि ३८९ (२९६ ब्रिटिश अधीन प्रान्तों से + ९३ देशी भारतीय रियासतों से) थे |
  • संविधान सभा की प्रथम बैठक ९ दिसंबर १९४६ को नईदिल्ली स्थित काउन्सिल चेम्बर के पुस्तकालय भवन में हुई जिसके अस्थाई अध्यक्ष डॉ.सच्चिदानंद सिन्हा थे | ११ दिसम्बर १९४६ को डॉ राजेंद्र प्रसाद को स्थाई अध्यक्ष चुना गया |
  • १३ दिसंबर १९४६ को संविधान का “उद्देश्य प्रस्ताव” प.जवाहरलाल नेहरु ने प्रस्तुत किया | जिसे २२ जनवरी १९४७ को संविधान सभा द्वारा स्वीकार कर लिया गया |
  • संविधान की निर्माण प्रक्रिया में श्री बी.एन. राव को संवैधानिक सलाहकार नियुक्त किया गया तथा विश्व के ६० देशों के संविधान का अध्ययन किया गया |
  • संविधान सभा में महिला सदस्य के रूप में सरोजनी नायडू एवं श्रीमति हंसा मेहता चुनी गई थी |
  • संविधान का निर्माण ०९ दिसंबर १९४६ से २६ नवम्बर १९४९ के बीच कुल २ वर्ष ११ माह 18 दिन में पूर्ण हुआ | २६ नवम्बर १९४९ को संविधान अंगीकृत/ग्रहण किया गया एवं २६ जनवरी १९५० को भारत में लागू हुआ |
  • भारत के मूल संविधान में 22 भाग, 395 अनुच्छेद और 8 अनुसूचियाँ थी, वर्तमान में 460 अनुच्छेद और 12 अनुसूचियाँ है |
भारतीय संविधान में सम्मिलित विदेशी तत्व
1
संयुक्त राज्य अमेरिका
मौलिक अधिकार, ‘कानून का समान संरक्षण,  उप-राष्ट्रपति का पद एवं उसका राज्यसभा का पदेन सभापति होना, स्वतन्त्र न्यायपालिकान्यायिक पुनर्विलोकन एवं सर्वोच्च न्यायालय का संगठन एवं शक्तियाँ |
2
आयरलैंड
नीति निर्देशक तत्व, राज्यसभा में कला, समाज, सेवा, साहित्य, विज्ञान के क्षेत्र से 12 सदस्यों का मनोनयन, आपातकाल उपबंध |
3
ब्रिटेन
संसदीय प्रणाली, संसदीय विशेषाधिकार, एकल नागरिकता, विधि का शासन, विधि के समक्ष समानता (अनुच्छेद 14) एवं राष्ट्रपति द्वारा अभिभाषण
4
आस्ट्रेलिया
समवर्ती सूची का प्रावधान, केंद्र-राज्यों के बीच शक्तिओं/अधिकारों का विभाजन
5
कनाडा
संघात्मक विशेषताएं, अवशिष्ट शक्तियां केंद्र के पास
6
दक्षिण अफ्रीका
संविधान संशोधन की प्रक्रिया
7
रूस
मौलिक अधिकारों की स्थापना
8
जापान
विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया

  • ·        संविधान सभा के सदस्यों ने २४ जनवरी १९५० को संविधान के अंतिम प्रारूप पर हस्ताक्षर किये एवं डॉ. राजेंद्र प्रसाद को भारतीय गणतंत्र का अंतरिम राष्ट्रपति चुना गया | इसी दिन सभा ने राष्ट्रगान (जन गन मन ) की घोषणा की थी |
·        संविधान के निम्न 15 अनुछेद २६ नवम्बर १९४९ को ही लागू हो गए थे ५, ६, ७, ८, ९, ६०, ३२४, ३६६, ३६७, ३७२, ३८०, ३८८, ३९१, ३९२, ३९३ तथा शेष अनुच्छेदों को २६ जनवरी १९५० को लागू किया गया |
·        भारतीय संविधान के अनुसार “भारत राज्यों का संघ” है |
·        संविधान में वर्णित “नीति निर्देशक तत्वों” में लोक कल्याणकारी राज्य की अवधारणा निहित है |
·        भारतीय संविधान के अनुसार “राजनीतिक शक्ति का आधार” भारत की जनता है |
·         भारतीय संविधान में "मूल कर्तव्यों" को ४२ वें संविधान  संसोधन (१९७६ )" द्वारा जोड़ा गया है | ४२ वें संविधान संसोधन को मिनी कांस्टीट्यूशन कहा जाता है ||
·         भारतीय संविधान में एकल नागरिकता का प्रावधान किया गया है |
·        डॉ. भीमराव अम्बेडकर ने “अनुच्छेद ३२ (संवैधानिक उपचारों का अधिकार)” को भारतीय संविधान का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा मानते हुए इसे “संविधानिक की आत्मा” कहा है | नागरिकों के लिहाज से सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है | यदि किसी नागरिक को लगता है की संविधान द्वारा प्रदत्त मौलिक अधिकारों का शासन, प्रशासन अथवा संस्था द्वारा हनन किया जा रहा है तो वह उच्च न्यायलय या उच्चतम न्यायलय जा सकता है |
·        उच्चतम न्यायालय एवं उच्च न्यायालयों को मौलिक अधिकारों का संरक्षक कहा जाता है |
·         
अनुसूचियाँ
अनुसूचियाँ
विषय
प्रथम अनुसूची
संघ का नाम एवं उसका राज्य क्षेत्र
दूसरी अनुसूची
राष्ट्रपति, मुख्य न्यायाधीश, नियंत्रक महालेखापरीक्षक, . . .जैसे प्रमुख पदाधिकारियों के सम्बन्ध में उपबंध (वेतन एवं भत्ते)
तीसरी अनुसूची
संवैधानिक पदों के सम्बन्ध में शपथ या प्रतिज्ञान का प्रारूप
चौथी अनुसूची
राज्यसभा में विभिन्न स्थानों का आवंटन
पाँचवी अनुसूची
अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति क्षेत्रों के प्रशासन और नियंत्रण सम्बन्धी उपबंध
छठवी अनुसूची
असम, मेघालय, त्रिपुरा एवं मिजोरम राज्यों के जनजाति क्षेत्रो के प्रशासन सम्बन्धी उपबंध
सातवीं अनुसूची
विभिन्न सूचियाँ :- १) संघ सूची २) राज्य सूची ३) समवर्ती सूची
आठवीं अनुसूची
भारत की विभिन्न भाषाएँ (कुल २२ भाषाएँ शामिल है)
नवमी अनुसूची
कुछ अधिनियमों व विनियमों का विधिमान्यकरण
दसवीं अनुसूची
दल-बदल के आधार पर निर्हर्ता सम्बन्धी प्रावधान
ग्यारहवी अनुसूची
पंचायतों की शक्तियां, प्राधिकार तथा उत्तरदायित्व
बारहवी अनुसूची
नगरपालिकाओं की शक्तियां, प्राधिकार एवं उत्तरदायित्व